PIB Fact Check: क्या भारत सरकार स्टूडेंट्स को फ्री में दे रही है लैपटॉप! जानें इस वायरल – ABP न्यूज़

By: ABP Live | Updated at : 03 Jun 2022 03:16 PM (IST)

फ्री लैपटॉप की सुविधा (PC: Freepik)
PIB Fact Check of Free Laptop Scheme: सरकार देश के गरीब और मध्यम वर्ग (Middle Class) के लोगों के लिए कई तरह की स्कीम लेकर आती रहती है. इन स्कीम के जरिए किसानों (Farmer Scheme), महिलाओं, छात्र आदि को कई तरह की सरकारी योजनाओं (Government Schemes) का लाभ दिया जाता है. सरकार देश में स्टूडेंट्स  के लिए कई तरह की स्कॉलरशिप (Scholarship) योजनाएं और फ्री लैपटॉप योजनाएं लॉन्च करती रहती है. यह सभी योजनाएं केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा लॉन्च किया जाता है.
उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों ने अपने राज्य के मेधावी छात्रों को मुफ्त लैपटॉप बांटने का फैसला पिछले कुछ सालों में किया है. आजकल सोशल मीडिया पर एक मैसेज बहुत तेजी से वायरल हो रहा है. इस वायरल मैसेज में यह दावा किया जा रहा है भारत सरकार (Government Scheme) छात्रों को मुफ्त लैपटॉप (Free Laptop Government Scheme) बांट रही है. तो चलिए हम आपको इस मैसेज और इसकी सच्चाई के बारे में बताते हैं.
पीआईबी ने ट्वीट कर दी जानकारी
पीआईबी (PIB Fact Check) बहुत से वायरल मैसेज का फैक्ट चेक (Fact Check) करता है. इसके जरिए यह पता चलता है कि यह मैसेज सही है या फेक. PIB फैक्ट चेक कर अपने ट्विटर हैंडल में इस मैसेज में दिए गए दावों की सच्चाई पता की है.वायरल हो रहे मैसेज में यह दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार छात्रों को मुफ्त में लैपटॉप की सुविधा दे रही है. इसके अलावा वायरल मैसेज (Viral Message) में एक लिंक भेजा गया है जिस पर क्लिक करके आप इस मुफ्त लैपटॉप सुविधा को प्राप्त कर सकते हैं.
A text message with a website link circulating on social media claims that the Government of India is offering free laptops to all students#PIBFactCheck:

paisa reels

▶️The circulated link is #Fake

▶️The government is not running any such scheme pic.twitter.com/IRCjWsuoAu

क्या है वायरल मैसेज की सच्चाई
PIB Fact Check ने इस वायरल मैसेज की सच्चाई पता लगाई है. फैक्ट चेक से पता चला है कि भारत सरकार इस तरह की कोई योजना नहीं चला रही है. आप भूलकर भी इस तरह के फर्जी मैसेज पर भेजे गए लिंक पर क्लिक न करें. इस लिंक पर क्लिक कर अपनी पर्सनल जानकारी और बैंक डिटेल्स फील करने पर आप साइबर अपराध (Cyber Fraud) के शिकार हो सकते हैं. ऐसे में इस तरह के मैसेज को इग्नोर करें और डिलीट करें. इस तरह के मैसेज दूसरों को भी फॉरवर्ड करने से बचें.
ये भी पढ़ें-
FD Rates Hike: इस सरकारी बैंक ने ग्राहकों को दी खुशखबरी! FD पर मिलेगा अब ज्यादा रिटर्न
FD पर तगड़ा रिटर्न चाहिए? NBFCs में करें निवेश, जानें ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद लेटेस्ट रेट्स
India Trade Data: एक्सपोर्ट में आई गिरावट, दिसंबर में व्यापार घाटा बढ़कर 23.76 अरब डॉलर पर पहुंचा
Air India: एविएशन सेक्टर में दबदबा बढ़ाने के लिए 500 नए विमानों का आर्डर दे सकती है एयर इंडिया!
Housing Prices: 2023 में घरों की कीमतों में हो सकता है इजाफा, बिल्डर्स के सर्वे में हुआ खुलासा
IPO News: बाजार के बिगड़े सेंटीमेंट का असर, फरवरी 2023 में इन कंपनियों के लिए IPO लॉन्च करने की समय सीमा हो जाएगी खत्म!
Salary Hike In 2023: खुशखबरी! 2022 से ज्यादा 2023 में बढ़ने वाला है आपका वेतन, 9.8% औसतन बढ़ सकती है सैलेरी
‘…आप बोलते हुए अच्छे नहीं लगते’, राहुल गांधी के वार पर पंजाब के सीएम भगवंत मान का पलटवार, पढ़ें पूरा मामला
मैनपुरी में जीत के बाद अखिलेश-शिवपाल और समाजवादी पार्टी के अंदरखाने में क्या चल रहा है?
लीजिए खत्म हुआ सिद्धार्थ मल्होत्रा की Mission Majnu का इंतजार! नेटफ्लिक्स पर इस दिन करेगी धमाका
Oxfam Report: अमीर-गरीब के बीच खाई बढ़ी, 1 प्रतिशत धन्‍नासेठों के पास है देश की 40 फीसदी दौलत
कर्ज़ में डूबे पाकिस्तान को आखिर क्यों याद आ गया पीएम मोदी का भाषण?

source